Pahla Bander de Bachhe nu Lya God,Hun Raaz to Parda Uthya ta Saareya de Hosh Udd Gye ………..

ਪਹਿਲਾਂ ਬਾਂਦਰ ਦੇ ਬਚੇ ਨੂੰ ਲਿਆ ਗੋਦ ,ਹੁਣ ਰਾਜ ਤੋਂ ਪੜਦਾ ਉਠਿਆ ਤਾਂ ਸਾਰਿਆਂ ਦੇ ਹੋਸ਼ ਉਡ ਗਏ ………..

यह दुनिया इतनी बड़ी है यहां आए दिन कुछ नया और अजब गजब होता रहता है। रोज़ कोई नई घटना या चमत्कार सुनने को मिलता है। ऐसा ही एक अचंभे भरा अनोखा वाकया सामने आया। जहां एक मरी हुई माँ जो प्रेग्नेंट थी कि कोख से एक बच्चे को जन्म दिलाया गया। एक इंसानियत भरी घटना जो शायद आपको भी इमोशनल कर दे। आप भी इंसानियत पर विश्वास करने लगेंगे। एक मां के लिए उसका बच्चा क्या होता है यह तो आप जानते ही हैं…उसी बच्चे के लिए एक महिला ने दूसरी माँ के देहांत के उपरांत उस बच्चे को जन्म दिलाया और इंसानियत की नई मिसाल कायम की। दरअसल यह पूरी घटना थाईलैंड के नाकोंन सावन नामक जगह की है। यहां पर एक महिला ने एक मरी हुई मां के बच्चे को बचा कर इंसानियत के लिए एक नई मिसाल तो काम की ही और इंसानियत को एक नया नाम भी दिया। यह पूरी घटना एक इंसान और एक जानवर के बीच का घटित हुई। जिसमें एक महिला ने अपनी इंसानियत दिखाते हुए एक जानवर के लिए दया भाव दिखाया और उस जानवर के मर जाने के बाद उसके पेट में पल रहे बच्चे को बचाया।

ਪਹਿਲਾਂ ਬਾਂਦਰ ਦੇ ਬਚੇ ਨੂੰ ਲਿਆ ਗੋਦ ,ਹੁਣ ਰਾਜ ਤੋਂ ਪੜਦਾ ਉਠਿਆ ਤਾਂ ਸਾਰਿਆਂ ਦੇ ਹੋਸ਼ ਉਡ ਗਏ ………..

यह पूरी घटना कब हुई जब घटनास्थल पर दौड़ रही बंदरिया को एक गाड़ी बहुत जोर से टक्कर मार गई। उस भयानक टक्कर के दौरान वह सड़क किनारे दूर जाकर गिरी। इस टक्कर के दौरान उसको बहुत ज्यादा चोट आई और वह बहुत बुरी तरह जख्मी हो गई। यहां तक की वह बंदरिया मौके पर ही मर चुकी थी। इस पूरी घटना को वहां पर मौजूद एक महिला Padtama Kedkuerviriyanon ने अपनी आंखों से देखा।

ਪਹਿਲਾਂ ਬਾਂਦਰ ਦੇ ਬਚੇ ਨੂੰ ਲਿਆ ਗੋਦ ,ਹੁਣ ਰਾਜ ਤੋਂ ਪੜਦਾ ਉਠਿਆ ਤਾਂ ਸਾਰਿਆਂ ਦੇ ਹੋਸ਼ ਉਡ ਗਏ ………..

एक दुर्घटना को देखकर वह महिला अंदर तक पूरी दहल चुकी थी। उसने तुरंत बंदरिया के पास जाकर उसे देखा तो पता चला कि वह तो गर्भवती है। उसके पेट में एक बच्चा पल रहा था जो जिंदा था। उस औरत ने बिल्कुल भी देरी नहीं की और तुरन्त उस बच्चे को बचाने की कोशिश में लग गई। उसने बिना किसी मेडिकल का इंतजार किए बंदरिया के पेट को काटकर बच्चे को बचा लिया। उस महिला ने उस प्रेग्नेंट बंदरिया के बच्चे को वही सबके सामने अपने हाथों से जन्म दिलाया और उसे नया जीवन दिया।

ਪਹਿਲਾਂ ਬਾਂਦਰ ਦੇ ਬਚੇ ਨੂੰ ਲਿਆ ਗੋਦ ,ਹੁਣ ਰਾਜ ਤੋਂ ਪੜਦਾ ਉਠਿਆ ਤਾਂ ਸਾਰਿਆਂ ਦੇ ਹੋਸ਼ ਉਡ ਗਏ ………..

यह इंसानियत की एक नई मिसाल है। बताया जाता है कि वह महिला वही पर बंदरों के लिए समान बेचा करती थी, जब उसने सड़क हादसे को देखा तो गए खुद को रोक नहीं पाई और उस बंदरिया के बच्चे को नया जीवन देकर इंसानियत दिखाई। अब वह बच्चा उसी महिला के साथ रहता है और उसी के साथ खाता पीता और सोता है। स्थानीय लोगों द्वारा बताया जाता है कि उस औरत ने बहुत हिम्मत दिखाई जो उसने इतना बड़ा काम कर दिखाया।

उस बच्चे को Padtama ने बचाया और उसकी मरी हुई मां की जगह ले ली। वह उस बंदरिया के बच्चे को बिल्कुल अपने बच्चे की तरह पालती है और उसके साथ पूरा समय व्यतीत करती है। यह वाक्य हमें सबक देता है कि हमें इंसानियत दिखाते हुए हर उसकी मदद करनी चाहिए जो कोई मुसीबत में हो। चाहे वह जानवर हो या इंसान हमें अपनी इंसानियत नहीं होनी चाहिए और वक्त पड़ने पर सभी इंसानियत जरूर दिखाने चाहिए और उनकी मदद करनी चाहिए। Padtama ने इंसानियत की एक नई मिसाल कायम करो बंदरिया के बच्चे की मां बन गई जिसमें अपनी मां को दिखी और अब एक नई मां उसे मिल गई है। अब वह उसे तब तक अपने पास रखना चाहती है जब तक कि वह बढ़ाना हो जाए और खुद अपने बलबूते पर खाने पीने ना लग जाए। इसे बड़ी और इंसानियत के पहचान क्या हो सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *